जीलेण्डिया (Zealandia)-विश्व का आठवां महाद्वीप (8th Continent)

महाद्वीप – एक विस्तृत ज़मीन का फैलाव है जो पृथ्वी पर समुद्र से अलग दिखाई देते हैं।
हाल ही मे दुनिया के आठवें महाद्वीप के लिये नक्शा जारी किया गया तथा इसका नाम जीलेण्डिया दिया गया ।
ये नक्शा न्यूजिलेंड सरकार के GNS विज्ञान ( a geohazards research and consultancy organization) संस्था द्वारा किया गया।
इस जीलेण्डिया महाद्वीप के बाथयमटरी मेप तथा टेक्तोनीक मेप दौनो ही तरह के नक़्शे जारी किये गये है।

जीलेण्डिया

  • विश्व का आठवां महाद्वीप है ऐसा वैज्ञानिकों का मत है।
  • इसको Te riu -a- maui नाम से भी जाना जाता है ये शब्द मओरि भाषा के आधार पर दिया गया, जो की वहा की जनजाति की भाषा है।
  • वेज्ञानिको ने 2017 मे ईस 8 वे महाद्वीप के अस्तित्व की पुष्टि की थी
  • सबसे पहले भूभौतिकीविद Bruce Luyendyk ने जीलेण्डिया शब्द की चर्चा की थी
  • इसका क्षेत्रफल 5 मिलियन वर्ग किलोमीटर है, जो की ऑस्ट्रेलिया के आकार का आधा है।
  • जीलेण्डिया ऑस्ट्रेलिया के पुर्व व वर्तमान न्यूजीलेण्ड के नीचे है।
  • इसका केवल 6% भाग ही समदर के बाहर है ,शेष 94% भाग पानी मे है l
  • 2017 तक जीलेण्डिया को मेडागास्कर की तरह माइक्रोकंटीनेट माना जाता था।
महाद्वीप होने की मुख्य शर्तें-
  • स्पष्ट परिभाषित सीमा
  • 1 मिलियन वर्ग किलोमीटर से अधिक क्षेत्रफल
  • महाद्वीपीय भूपपटी ( continental crust) महासागरिय भूपपटी (oceanic crust) से मोटी हो
  • मेप जारी करने वाले वेज्ञानिको के अनुसार जीलेण्डिया उन सभी शर्तों को पुरा करता जो एक महाद्वीप होने के लिये ज़रुरी है।
  • महाद्वीप के बाथयमटरी मेप और टेक्टोनिक मेप से सभी शर्तों के पुरा होने की पुष्टि होती है।


बाथयमटरी मेप-


पानी के अन्दर महाद्वीप के आकार को दिखाता है।

जीलेण्डिया  का नक्शा

टेक्टोनिक मेप– भुपपटी की आयु एव प्रकार, और ज्वालामुखी के बारे मे बताता है।

• बाथयमटरी मेप के लिये डाटा seabed 2030 प्रोजेक्ट से लिया गया।

seabed 2030 प्रोजेक्ट

  • 2030 तक सम्पूर्ण समुंद्री सतह (ocean floor ) को मापने की पहल है।
  • 20% समुद्र की मेपिन्ग हो चुकी है।
  • 2017 तक जीलेण्डिया को डूबा हुवा महाद्वीप माना जाता था

माना जा रहा है की बाथयमटरी मेप और टेक्टोनिक मेप के बाद 2020 मे इस महाद्वीप को भी बाकी के 7 महाद्वीपो के साथ जोड़ कर 8 वाँ महाद्वीप बनाया जायेगा

डॉ. मोटीमर के अनुसार अगर समुद्र का सारा पानी हटा सके तो हम 100% जीलेण्डिया को देख पायेंगे।


हमारे अन्य लेख पढ़ेंTable Top Runway(टेबल टॉप रनवे)

%d bloggers like this: