Table Top Runway(टेबल टॉप रनवे)


रनवे- टेबल टॉप रनवे के बारे मे जानने से पहले ये जानना जरुरी है कि रनवे क्या होता है। वह मार्ग या रूट होता है जहाँ पर हवाई जहाज उतरता है या उड़ान भरता है।

टेबल टॉप रनवे- ये भी सभी रनवे की तरह एक मार्ग होता है जहाँ से हवाई जहाज उड़ान भरते है, परंतु ये मार्ग अपनी भौगोलिक परिस्थिति की वजह से बाकी रनवे से अलग होते हैं। टेबलटॉप रनवे मे हवाई पट्टी एक ऐसे ऊंचाई वाले इलाके में स्थित है, जिसके आसपास खाई यानी घाटी है। इसका स्वरूप एक मेज की तरह होता है। टेबलटॉप में रनवे खत्म होने के बाद आगे ज्यादा जगह नहीं होती है। ऐसे में रनवे पर उतरते हुए विमान के आगे निकल जाने का खतरा बढ़ जाता है। 

टेबल टॉप रनवे


भारत मे टेबल टॉप रनवे-
1 शिमला हवाईअड्डा – हिमाचल प्रदेश
2 कोझिकोड अन्तराष्ट्रीय हवाईअड्डा
3 लेंगपुई हवाई अड्डा मिजोरम
4 मंगलौर हवाईअड्डा कर्नाटक

क्यो है टेबल टॉप रनवे जानलेवा
भ्रम पैदा करने वाली सिचुएशन

टेबल टॉप रनवे होने से पर खतरा बहुत ज्यादा होता है। किसी पहाड़ी या ऊंचे स्थान पर बने रनवे बहुत खतरनाक होते हैं.क्योंकि ऐसे रनवे की शुरुआत और अंत यानी दोनों तरफ गहरी खाई होती है. इसीलिए इसे टेबल टॉप रनवे कहा जाता है ये टेकऑफ और लैंडिंग करना दोनों ही आसान नहीं होता. ऐसे रनवे पर विमान लैंड करते समय यदि पायलट ने गणना करने में गड़बड़ी की तो हादसा होने का खतरा तेजी से बड़ जाता है. ऐसे एयरपोर्ट पर Optical Illusion की वजह से खतरा ज्यादा होता है यानी ये किसी मृग मरीचिका की तरह होते हैं. जब भी पायलट टेबल टॉप रनवे पर विमान लैंड करने की कोशिश करते हैं तब उन्हें आगे और पीछे मौजूद गहरी खाई भी रनवे के बराबर दिखाई देती है. ऐसी में भ्रम पैदा करने वाली सिचुएशन आती है जिसे बड़ी ही सूझ-बूझ के साथ हैंडल किया जाता है. टेबल टॉप रनवे पर हो रही दुर्घटनाओं की वजह है- दृष्टि संबंधी भ्रम.

भारत मे टेबल टॉप रनवे की वजह से होने वाली विमान दुर्घटनाये 1-मंगलुरू का एयरपोर्ट भी एक टेबल टॉप रनवे
कोझिकोड के इस एयरपोर्ट की तरह कर्नाटक के मंगलुरू का एयरपोर्ट भी एक टेबल टॉप रनवे है. मंगलुरू एयरपोर्ट पर 2010 में इसी तरह का विमान हादसा हुआ था जिसमें 158 लोगों की मौत हो गई थी. वो विमान भी एयर इंडिया का था और दुबई से मंगलुरू आ रहा था और मंगलुरू एयरपोर्ट पर लैंडिंग के समय ठीक इसी तरह से दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, विमान रनवे पर फिसल कर खाईं में गिर गया था और जिसके बाद उस विमान में आग लग गई थी. मंगलुरू के हादसे में विमान में सवार सिर्फ 8 लोग बचे थे. विमान भी दो हिस्सों में टूट गया था. टेबल टॉप रनवे पर विमानों की लैंडिग करना पायलट के लिए अपनी जान जोखिम में डालने जैसा है।

एयर इंडिया एक्सप्रेस फ्लाइट 812

2 -केरल राज्य के कोझिकोड अन्तराष्ट्रीय हवाईअड्डा पर 7 अगस्त 2020 को एक बड़ा विमान हादसा हुआ है ।दुबई से आ रहे विमान में कुल 190 लोग सवार थे । जिसमें एक भारतीय वायुसेना के रिटायर पायलट दीपक वसंत साठे सहित 16 लोगों की मौत हुई है. एयर इंडिया एक्सप्रेस विमान (Air India Express) फिसलकर खाई में गिर गया और दो टुकड़ों में बंट गया ।

एयर इंडिया विमान दुर्घटना

टेबल टॉप रनवे के लिये पायलट को अलग से प्रशिक्षण दिया जाता है , तथा अनुभवी पायलटो को ही टेबल टॉप रनवे पर विमान उड़ान भरने व उतारने दिया जाता है , उम्मीद है की भविष्य मे एसी घटनाओ का सामना ना करना पडे ।